UP Board Class 7 Civics Chapter 2 Solutions – व्यवस्थापिका-कानून बनाना

Are you searching for UP Board class 7 Civics chapter 2 solutions? Get our free guide on this chapter here. This guide is available in Hindi medium and provides you complete answers for all the questions asked in chapter 2 – “व्यवस्थापिका-कानून बनाना”.

इस अध्याय में हम जानेंगे कि किस तरह से हमारे देश में कानून बनाए जाते हैं और इसमें सरकार के विभिन्न अंगों की क्या भूमिका होती है। हम समझेंगे कि संसद कैसे कानून बनाती है और राज्य विधानसभाओं की इसमें क्या भूमिका है। इसके अलावा, हम कानून निर्माण प्रक्रिया के चरणों और उनमें शामिल प्रमुख पदों के बारे में भी सीखेंगे।

UP Board Class 7 Civics Chapter 2

UP Board Class 7 Civics Chapter 2 Solutions

SubjectCivics
Class7th
Chapter2. व्यवस्थापिका-कानून बनाना
BoardUP Board

प्रश्न 1. निम्नलिखित प्रश्नों में दिए गए विकल्पों में से सही उत्तर वाले विकल्प के सामने वाले गोले को काला कीजिए –

(क) लोकसभा का कार्यकाल है –

(अ) 5 वर्ष
(ब) 6 वर्ष
(स) 7 वर्ष
(छ) 8 वर्ष

उत्तर: (अ) 5 वर्ष

(ख) उत्तर प्रदेश विधान परिषद् की सदस्य संख्या है –

(अ) 95
(ब) 99
(स) 100
(छ) 104

उत्तर: 100

प्रश्न 2. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए

(क) भारतीय संघीय व्यवस्था का प्रमुख लक्षण क्या है?

उत्तर – भारतीय संघीय व्यवस्था का प्रमुख लक्षण विभिन्न विषयों पर विधायी शक्तियों का केंद्र और राज्यों के बीच बँटवारा है। इस उद्देश्य से तीन सूचियाँ बनाई गई हैं – केंद्र सूची, राज्य सूची और समवर्ती सूची। केंद्र सूची के विषयों पर केवल संसद कानून बना सकती है, जबकि राज्य सूची के विषयों पर राज्य विधानसभाएं कानून बना सकती हैं। समवर्ती सूची वे विषय हैं जिन पर दोनों कानून बना सकते हैं, लेकिन विरोधाभास की स्थिति में केंद्र का कानून प्रभावी होगा।

(ख) केन्द्र सूची, राज्य सूची, समवर्ती सूची के दो-दो विषय लिखिए।

उत्तर –

  • केंद्र सूची के विषय:- रक्षा, विदेश मामले
  • राज्य सूची के विषय:- पुलिस, स्थानीय निकाय
  • समवर्ती सूची के विषय:- अपराध, वैवाहिक मामले

(ग) लोकसभा के कार्यों को लिखिए।

उत्तर – लोकसभा के मुख्य कार्य हैं:-

  • नए कानून बनाना और पुराने कानूनों में संशोधन करना।
  • मंत्रिपरिषद की कार्यप्रणाली पर नियंत्रण रखना।
  • कर लगाना और सरकारी खर्च स्वीकृत करना।
  • जनहित के मुद्दों पर चर्चा करना।

(घ) लोकसभा तथा राज्यसभा की शक्तियों में कोई एक अन्तर लिखिए।

उत्तर – एक महत्वपूर्ण अंतर यह है कि धन विधेयक केवल लोकसभा में ही पेश किया जा सकता है। राज्यसभा केवल उस पर चर्चा कर सकती है, लेकिन पारित नहीं कर सकती।

(ङ) विधेयक के कानून बनने के तीन चरणों को प्रस्तुत कीजिए।

उत्तर – विधेयक को कानून बनने के लिए निम्न 3 चरणों से गुजरना पड़ता है:-

  1. प्रारंभ में विधेयक संसद के किसी एक सदन में पेश किया जाता है।
  2. दोनों सदनों द्वारा विधेयक को पारित किया जाना होता है।
  3. राष्ट्रपति द्वारा विधेयक पर हस्ताक्षर करना।

(च) धन विधेयक क्या है? इसको पारित करने की प्रक्रिया साधारण विधेयक से किस प्रकार अलग है?

उत्तर – धन विधेयक वह विधेयक होता है जिसका संबंध सरकार की आय-व्यय से होता है। इसे केवल लोकसभा में ही पेश किया जा सकता है और राज्यसभा इस पर केवल चर्चा कर सकती है परंतु पारित नहीं कर सकती। यदि दोनों सदनों में मतभेद होता है तो लोकसभा का निर्णय ही अंतिम होगा। साधारण विधेयकों को दोनों सदनों द्वारा पारित किया जाना जरूरी होता है।

(छ) अपने प्रदेश के विधानमंडल के बारे में लिखिए।

उत्तर – छात्र अपने क्षेत्र के विधानमंडल के बारे में जानकारी अनुसार स्वयं लिखे।

प्रश्न 3. रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए-

उत्तर –

(क) संघ कई राज्यों से मिलकर बना है।
(ख) संविधान में शिक्षा से सम्बन्ध रखने वाले विषय समवर्ती सूची में दिया गया है।
(ग) लोकसभा, राज्यसभा तथा राष्ट्रपति को मिलाकर भारतीय संसद बनती है।
(घ) राज्य सभा में सदस्यों की संख्या अधिक से अधिक 250 हो सकती है।

प्रश्न 4. सही मिलान कीजिए ( सही मिलान करके)-

उत्तर –

केन्द्र सूचीका विषयडाक तथा तार
लोकसभा के बैठक की कार्यवाहीअध्यक्ष
राज्यसभा के सदस्यों का कार्यकाल6 वर्ष
लोकसभा की सदस्यता हेतु न्यूनतम आयुकम से कम 25 वर्ष
Other Chapter Solutions
Chapter 1 Solutions – हमारा संविधान
Chapter 2 Solutions – व्यवस्थापिका-कानून बनाना
Chapter 3 Solutions – कार्यपालिका – कानून लागू करना
Chapter 4 Solutions – न्यायपालिका – कानून का पालन करना

Leave a Comment