Bihar Board Class 7 History Chapter 3 Solutions – तुर्क-अफगान शासन

Get free Bihar Board Class 7 History chapter 3 solutions here. Our expert written answers for all the questions from chapter 3 – “तुर्क-अफगान शासन” are available below. These answers are written in Hindi and follow your current BSEB syllabus.

इस अध्याय में हम उस समय के भारतीय इतिहास का अध्ययन करेंगे जब मुसलमान शासकों ने दिल्ली को अपना केंद्र बनाकर एक बड़े राज्य की स्थापना की। यहां से दिल्ली सल्तनत का शासन शुरू हुआ। इस सल्तनत की स्थापना मुहम्मद गौरी के टुकड़ों में बंटे साम्राज्य के अंश से हुई। कुतुबुद्दीन ऐबक इसका पहला सुल्तान था जो गौरी का गुलाम था, इसलिए इस सल्तनत को गुलाम वंश का शासन भी कहा जाता है। इसके बाद खिलजी और तुगलक वंशों का शासन भी यहीं से चला। तुगलक वंश के शासकों में मुहम्मद बिन तुगलक एक महत्वपूर्ण शासक था जिसने कई नवीन प्रयोग किए। बाद में सैयद और लोदी वंशों का भी यहीं से शासन रहा।

Bihar Board Class 7 History Chapter 3

Bihar Board Class 7 History Chapter 3 Solutions

SubjectHistory (अतीत से वर्तमान भाग 2)
Class7th
Chapter3. तुर्क-अफगान शासन
BoardBihar Board

पाठगत प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1. गंगा-यमुना का दोआब किसे कहा गया है ?

उत्तर- गंगा-यमुना के बीच की भूमि को गंगा-यमुना का दोआब कहा गया है।

प्रश्न 2. बरनी ने सुल्तान की आलोचना क्यों की थी ?

उत्तर- बरनी ने सुल्तान की आलोचना इसलिए की थी क्योंकि सुल्तान निम्न वर्ग के लोगों को भी उच्च पदों पर नियुक्त करने लगा था। बरनी का मानना था कि निम्न वर्ग के लोग योग्यता के अभाव में उच्च पदों पर रहकर अच्छा प्रशासन नहीं कर पाएंगे।

प्रश्न 3. अमीर के रूप में किस वर्ग के लोग शामिल थे?

उत्तर- दिल्ली सल्तनत के विस्तार के कारण सुल्तानों ने प्रांतों के प्रभार के लिए सूबेदार, सेना के लिए सेनापति और प्रशासन के लिए अधिकारियों को नियुक्त किया। इन्हीं तीनों प्रकार के अधिकारियों को ‘अमीर’ कहा जाता था।

प्रश्न 4. टंका क्या था ? उस समय का एक मन आज के कितने वजन के बराबर था?

उत्तर- टंका चांदी की मुद्रा थी। एक टंका लगभग आज के एक रुपये के बराबर होता था। एक टंका में 48 जितल होते थे। उस समय का एक मन आज के लगभग 15 किलोग्राम के बराबर था।

प्रश्न 5. आप विचार करें कि अलाउद्दीन खिलजी के मल्य नियंत्रण की व्यवस्था से जनसाधारण को क्या लाभ हुआ ?

उत्तर- अलाउद्दीन खिलजी के मूल्य नियंत्रण की व्यवस्था से जन साधारण को यह लाभ हुआ कि उन्हें उचित मूल्य पर सस्ती वस्तुएँ मिलने लगीं।

प्रश्न 6. दिल्ली से दौलताबाद जाने में लोगों को किन-किन क्षेत्रों से होकर गुजरना पड़ा था ?

उत्तर- दिल्ली से दौलताबाद जाने में लोगों को रणथम्भौर, मालवा और चित्तौड़गढ़ क्षेत्रों से गुजरना पड़ा होगा। सबसे बड़ी चुनौती चंबल नदी पार करने की होगी।

प्रश्न 7. आपके अनुसार राजधानी परिवर्तन का कौन-सा कारण उपयुक्त होगा ?

उत्तर- राजधानी स्थानांतरण के कई कारण हो सकते हैं जैसे सुरक्षा, भौगोलिक स्थिति या सुल्तान की निजी वरीयता। किसी भी कारण का महत्व समझना मुश्किल है, लेकिन इससे नागरिकों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ा होगा।

प्रश्न 8. राजधानी परिवर्तन के दौरान नागरिकों को किस प्रकार के कष्ट हुए होंगे ?

उत्तर- राजधानी परिवर्तन के दौरान नागरिकों को अनेक कठिनाइयों का सामना करना पड़ा होगा। लंबी यात्रा के कारण उनके पैर घिस गए होंगे। खाने-पीने और आराम की समस्या रही होगी। अनजान रास्तों पर पानी और विश्राम स्थल खोजना भी मुश्किल होगा।

प्रश्न 9. आप वर्तमान समय में प्रचलित सांकेतिक मुद्रा के विषय में जानकारी प्राप्त करें।

उत्तर- आज के समय में मुद्रा प्रचलित है लेकिन वह धातु या कागज की नहीं बल्कि डिजिटल रूप में सांकेतिक है। हम क्रेडिट/डेबिट कार्ड या मोबाइल वॉलेट के माध्यम से भुगतान करते हैं। यह सिक्कों और नोटों की तुलना में अधिक सुविधाजनक है।

प्रश्न 10. “कृषि सुधार एक सरकारी दायित्व है।” यह बात मुहम्मद “तुगलक के समय में उभर कर सामने आई है । क्या आप बता सकते हैं कि वर्तमान सरकार द्वारा किसानों को कृषि के विकास एवं सुधार के लिये क्या सहायता दी जाती है?

उत्तर- वर्तमान में किसानों के लिए कई योजनाएं हैं जैसे प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, सस्ती बिजली और ईंधन। सरकार नए बीजों, खाद और कृषि उपकरणों पर अनुदान भी देती है। कृषि ऋण और बीमा भी उपलब्ध कराए जाते हैं।

प्रश्न 11. सल्तनत काल में साधारण किसान एवं धनी किसान में आप क्या अंतर देखते हैं ?

उत्तर- सल्तनतकाल में कुछ किसान बहुत धनी थे क्योंकि उनके पास बड़ी जमीनें थीं। उन्हें खुद, मुक्कदम और चौधरी कहा जाता था। दूसरी ओर, छोटे किसानों के पास कम जमीन थी। उन्हें बलहर किसान कहा जाता था। कुछ लोग भूमिहीन भी थे जो बड़े किसानों के खेतों में मजदूरी करते थे।

अभ्यास के प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1. दिल्ली की स्थापना किस राजवंश के काल में हुई ?

उत्तर- दिल्ली की स्थापना 950 में तोमर राजवंश के काल में हुई । लेकिन 12वीं सदी में अजमेर के शासक चौहानों ने दिल्ली पर अधिकार कर लिया।

प्रश्न 2. अलाउद्दीन खिलजी के समय किस गुलाम सेना नायक ने दक्षिण भारत पर विजय प्राप्त की थी?

उत्तर- अलाउद्दीन खिलजी ने अपने गुलाम नायक मलिक काफूर को दक्षिण भारत पर विजय प्राप्त करने के लिए भेजा था। काफूर ने देवगिरि, वारंगल, द्वारसमुद्र, मदुरई आदि पर विजय प्राप्त की और दक्षिण के बड़े हिस्से को दिल्ली सल्तनत के अधीन कर लिया। हालांकि, खिलजी ने उन राज्यों को स्वायत्तता दी और केवल सालाना कर लेना स्वीकार किया।

प्रश्न 3. मूल्य नियंत्रण की नीति किस सुल्तान ने लाग की थी? ।

उत्तर- मूल्य नियंत्रण की नीति अलाउद्दीन खिलजी ने शुरू की थी। इसका उद्देश्य था कि किसानों को उनकी फसल का उचित मूल्य मिले और उपभोक्ताओं से अधिक मूल्य न लिया जाए। इस नीति से जनता और किसानों दोनों को लाभ मिला।

प्रश्न 4. दिल्ली के किस सुल्तान ने नहरों का निर्माण करवाया था ?

उत्तर- दिल्ली के सुल्तान फिरोजशाह तुगलक ने नहरों का निर्माण करवाया था ।

प्रश्न 5. मिलान करें:-

उत्तर-

राजवंशसंस्थापक
(क) प्रारंभिक तुर्क वंशकुतुबुद्दीन ऐबक
(ख) खिलजी वंशजलालुद्दीन
(ग) तुगलक वंशगयासुद्दीन
(घ) सैयदवंशखिज्र खाँ
(ङ) लोदी वंशबहलोल
Other Chapter Solutions
Chapter 1 Solutions – कहाँ, कब और कैसे?
Chapter 2 Solutions – नये राज्य एवं राजाओं का उदय
Chapter 3 Solutions – तुर्क-अफगान शासन
Chapter 4 Solutions – मुगल साम्राज्य
Chapter 5 Solutions – शक्ति के प्रतीक के रूप में वास्तुकला, किले एवं धर्मिक स्थल
Chapter 6 Solutions – शहर, व्यापारी एवं कारीगर
Chapter 7 Solutions – सामाजिक-सांस्कृतिक विकास
Chapter 8 Solutions – क्षेत्रीय संस्कृतियों का उत्कर्ष
Chapter 9 Solutions – 18 वीं शताब्दी में नयी राजनैतिक संरचनाएँ

Leave a Comment